सीनियर राष्ट्रीय महिला हॉकी प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीतकर लौटी झारखंड महिला हॉकी टीम का रांची में भव्य स्वागत।

Share

05 से 17 मई तक मध्यप्रदेश के राजधानी भोपाल में आयोजित 12वीं हॉकी इंडिया राष्ट्रीय सीनियर महिला हॉकी चैंपियनशिप में हॉकी झारखंड की टीम ने तीसरे एवं चौथे स्थान के लिए खेले गए मैच में अपने चिर प्रतिद्वंदी हॉकी हरियाणा को तीन के मुकाबले दो गोल से पराजित कर शानदार खेल का प्रदर्शन किया और अपने नाम कांस्य पदक पक्का किया ।

2015 के बाद किसी भी हॉकी प्रतियोगिता में कोई पदक नही मिला था

झारखंड में इस बार 7 वर्ष के बाद यह पदक जीता है। अंतिम बार 2015 पदक हाथ लगी थी।हॉकी झारखंड ने पूरे प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन करते हुए अपना पहले मैच में पुदुचेरी को 36-0 गोल से पराजित कर एक नया रिकॉर्ड कायम किया।उसके बाद दूसरे मुकाबले में आंध्र प्रदेश को 10-0 से हराया। क्वार्टर फाइनल के मुकाबले में पेनाल्टी शूट आउट के सहारे महाराष्ट्र को 5-4 गोल से धोया और सेमीफाइनल में जगह पक्की किया।

सेमीफाइनल में ओडिशा ने झारखंड को हराया।

सेमीफाइनल मैच में हॉकी उड़ीसा से पराजित होकर फाइनल में पहुंचने का सपना अधूरा रह गया। परंतु तीसरे और चौथे स्थान के लिए खेले गए मैच में हरियाणा को 3-2 गोल से पराजित कर कांस्य पदक पर अपना नाम कर लिया । पूरे प्रतियोगिता में झारखंड टीम ने सभी टीमों से अधिक 49 गोल किए । फाइनल जीतने वाली उड़ीसा की टीम ने कुल 41 गोल किए ।

व्यक्तिगत गोल करने में भी झारखंड के खिलाड़ियों ने अव्वल स्थान में रहे।

प्रतियोगिता में सर्वाधिक गोल करने वाले में प्रथम 10 स्थान में झारखंड के चार खिलाड़ी थे ।सबसे अधिक वेतन डुंगडुंग ने 12 गोल , दूसरे स्थान में झारखंड के अलबेला रानी टोप्पो ने 10 तथा चौथे स्थान में झारखंड की प्रमिला सोरेंग ने 08 गोल कर शीर्ष पर रहे जबकि झारखंड के फुलमनी भेंगरा ने 5 गोल कर सर्वाधिक गोल करने वाले में नवीं स्थान में रही।

कांस्य पदक जीतकर आज रांची पहुंचने पर हॉकी झारखंड के द्वारा सभी खिलाड़ियों का स्वागत किया गया

मरांग गोमके जयपाल सिंह एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम मोराबादी रांची हॉकी झारखंड के महासचिव विजय शंकर सिंह ,सीईओ रजनीश कुमार एवम अन्य पदाधिकारियों ने सभी खिलाड़ियों को फूल माला, बुके देकर एवं मिठाई खिला कर स्वागत किया।कांस्य पदक विजेता झारखंड टीम में अंजली बिंझिया, रेशमा सोरेंग,डिप्टी टोप्पो,सिमता मिंज,अलबेला रानी टोप्पो,प्रमिला सोरेंग,वेतन डुंगडुंग,सम्मी बड़ा, विनीता तिर्की,सुभासी हेमरोम,रानी कुमारी, सुशीला कुजुर,रोशनी डुंगडुंग,,नीरू कुल्लू,निराली कुजुर,एडलिन बागे,फुलमनी भेंगरा,अमृता मिंज थे। वहीं कोच बिगन सोय और मैनेजर प्रतिमा तिर्की है।


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!