धुरकी : लोलकी मे बकरी चोरी की घटना को बार-बार दिया जा रहा है अंजाम, पशुपालको ने धुरकी थाना मे दिया आवेदन

Share



कृष्णा कुमार यादव


धुरकी । गढ़वा । धुरकी थाना क्षेत्र के लोलकी गांव मे बकरी चोरी करने की घटना को लगातार कुछ सक्रिय बकरी चोर गिरोह के द्वारा गत जुन माह से लेकर अबतक 79 बकरा-बकरी इसी गांव से हुआ चोरी। रविवार को लोलकी गांव निवासी असमुद्दीन अंसारी ने धुरकी थाना मे लिखित आवेदन देकर भुक्तभोगी ने गुहार लगाई है। इस संबंध मे भुक्तभोगी असमुद्दीन अंसारी ने बताया की गत शुक्रवार को उसके 25 बकरा-बकरी जंगल मे रोजाना की तरह चरने के लिए ले जाते थे, वहीं शाम तक जब बकरा-बकरी का किसी प्रकार से पता नही चला तब वह परेशान हो गए और अपने स्तर से खोजबीन करने के बाद भी पता नही चला तब उन्होने इसकी लिखित शिकायत धूरकी थाना मे किया है। इधर इसी गांव के मजलुम अंसारी का भी गत दो माह पुर्व जुन महिने मे उनका भी एकसाथ 24 बकरा-बकरी जंगल मे चरने के दौरान गायब हो गए थे। वहीं इनके अलावा रामसुंदर गोड़ का दस बकरा बकरी एक साथ चोरी हो गया है हलाकी इस मामले मे इधर खबर संकलन के दौरान तक रामसुंदर गोड़ ने धुरकी थाने मे आवेदन नही दिया है। वहीं रविवार को लोलकी गांव से एक दर्जन से अधिक ग्रामीण भी धुरकी थाने मे पहुंचे थे और लगातार इसी तरह से गांव के गरीब मजदुर पशुपालको का इस सुखाड़ और अकाल जैसी स्थिती मे लगातार एक के बाद एक ग्रामीण पशुपालको का बकरी चोरी करने की घटना के बाद ग्रामीणो मे काफी रोष है। ग्रामीणो ने यह भी बताया की लगातार बकरी चोर द्वारा इस तरह की घटना को बार-बार उनके ही लोलकी गांव मे अंजाम दिया जा रहा है जिससे लोलकी गांव के ग्रामीण रात मे अपने-अपने पशुओ की रखवारी करने के जागकर रक्षा कर रहे हैं, तथा जंगल मे अपनी बकरी और बकरा को चराने के लिए भी नही ले जा रहे हैं। भुक्तभोगियों ने यह भी बताया की बकरी चोरी की घटना जुन महिने से ही हो रही है। इधर गत रात्रि मे ग्रामीणो ने बकरी चोर के संदेह पर दो लोगो को पुलिस को भी सौपा है, इस संबंध मे थाना प्रभारी सदानंद कुमार ने बताया की मामले की जानकारी है तथा इस संबंध मे उन्हे पशुपालको के द्वारा आवेदन भी प्राप्त हुआ है, पुलिस मामले की गंभीरता से छानबीन मे जुट गई है, शीघ्र ही बकरी चोरो को चिन्हित किया जा रहा है तथा चोरी की गई बकरियों को बरामद कर पशुपालको को सौपा जाएगा।


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!